I need a master!

Given a choice, what would a dog choose: to become a human’s pet or be a street dog? Well, a pet would be provided with enough good food and loving people but the street dog has to search for its food entire day barking at unknown humans. But what if the dog had an option… Continue reading I need a master!

Oh Ya! I have one more year to enjoy the pronunciation of majestic teen at the end when someone asks my age because the twenties are really not so welcomed. Now, many of my ‘adult’ peers will be jealous of me, this is something that happens when you are younger than many of your juniors!… Continue reading

वो उस दिन भी इतनी सुंदर थी

वो उस दिन भी इतनी सुंदर थी, वो आज भी उतनी सुन्दर है। मैं उस दिन भी उस पे मरता  था, मैं आज भी उस पे मरता हूँ।   भोला-भाला सा था मैं, मंद मुस्कान के साथ चला जा रहा था मैं। वो सामने खड़ी थी, उसे देखते ही मेरी नजर सिर्फ उसी पर अड़ी… Continue reading वो उस दिन भी इतनी सुंदर थी

Extroverts in minority!

Ever thought of an introvert dominated society where only a few are extroverts? No? Keep reading then. Otherwise, keep reading. So how would such a society define the ‘minority’ extroverts? -someone who can’t resist constant shit coming out of their mouth. -who need other people at most of the times and feel drained when none… Continue reading Extroverts in minority!

“तुम”

तुम्हारी और मेरी ये कहानी है सालों पुरानी, तुम अटूट हिस्सा हो मेरी जिन्दगी का, हमेशा से ही ये बात मैने है मानी| मेरा पीछा न छोङने की तुमने भी है ठानी| जब-जब मौसम ने ली अंगङाई, तुम्हे  याद मेरी आई| तुम्हारे आने का अन्देशा मुझे पहले ही हो जाता है, हमारा ये अलग सा… Continue reading “तुम”

“घड़ी”

वो भी एक घड़ी थी, अपनी सखियों के संग मैं पर्दे के पीछे पड़ी थी। एक अजनबी की तलाश मे हर क्षण साठों बार नजरें घुमाती  थी। यह तो साई को भी सताई जब मुझ पर गर्द जम आई, एक दिन मेरा श्वेत रंग देखते ही मैं तुम्हे भाई। हर परिमाप पर परखने के बाद, सबके… Continue reading “घड़ी”